Monday, January 7, 2013



कल तक कुर्ते पहन कर कविता करता था मंचो पर कोई कवि नहीं मानता था अब ठीक हे

No comments:

Post a Comment