Monday, January 7, 2013

जिन्दगी कहा से कहा ले जाती हे कल तक उन्ही कविता को जो गलियों में चोपालो पर सुनाता था आज विदेश में जय हो प्रभु आपकी 

No comments:

Post a Comment